होम
परिचय

ओम श्री साईनाथ कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय - परिचय :

रायपुर से 20 किलोमीटर दूर बिलासपुर मार्ग पर धरसीवां में विकासखंड ,धरसीवां का मुख्यालय स्थित है । यहां लोगों की सुविधा के लिए कई शासकीय संस्थान संचालित है ,यथा -प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र ,पशु चिकित्सालय ,आरक्षी केन्द्र ,सहकारी बैंक ,पंचायत कार्यालय आदि । किन्तु आसपास की शिक्षा के लिए पूर्व माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक विद्यालय तक ही सुविधा थी । महाविद्यालय शिक्षा के लिए शहर पर आश्रित रहना पड़ता था मध्य श्रेणी और निर्धन के ग्रामीण अभिभावकों के लिए कठिन था । इस आभाव की पूर्ति के लिए स्थानीय प्रबुद्ध लोगो ने (सन )1994 में ओम श्री साईनाथ शिक्षण समिति की स्थापना की । इसके अध्यक्ष श्री सेवाराम चंद्रवंशी ,परसतराई सर्व सम्मति से चुने गये । आसपास के ग्रामो के गणमान्य नागरिक गण इसके सदस्य हैं ।

इनके आर्थिक सहयोग से इसी वर्ष बी.ए. प्रथम वर्ष तथा बी.कॉम. प्रथम वर्ष की कक्षा प्रारम्भ की गई जो की ग्राम चरोदा के कन्या पूर्व माध्यमिक शाला में लगती थी ,जो की लगातर तीन वर्षों तक चली । अध्यक्ष श्री सेवाराम चंद्रवंशी जी और उनके परिवार के अनुदान से महाविद्यालय का तारामती भवन निर्मित होने के बाद सत्र 1997-98 से कक्षाएँ स्वयं के भवन में लगने लगी । (सन ) 1997 में उच्च शिक्षा आयोग भोपाल के आदेशानुसार महाविद्यालय को पं. रविशंकर शुक्ल महाविद्यालय से संबंद्ध करने की अनुमति मिली । यह महाविद्यालय पृ. क्र. 1973 अका. सम्ब. 2004 ,रायपुर दिनांक 21/10/2004 से स्थायी सम्बद्धता प्राप्त है ।

अपने भविष्य के प्रति आशान्वित इस महाविद्यालय में परीक्षा केन्द्र स्थापित हो गया । अब इस महाविद्यालय के संघर्ष के दिन समाप्त हो गए हैं ,इसके विकास के लिए कठिन श्रम और त्याग का समय सामने है । जहां एक ओर महाविद्यालय अपने कर्त्तव्य के प्रति दृढ़ संकल्पित हैं वहीं विकास पथ सरल बनाने के लिए स्थानीय जनता तथा जन प्रतिनिधि कतिबद्ध हैं । 25 मार्च 1999 श्री रामनवमीं के शुभ दिन पर महाविद्यालय के प्रथम भवन तारामती भवन का (उदघाटन ) समारोह केन्द्रीय राज्यमंत्री श्री रमेश बैस व क्षेत्रीय विधायक श्री विधान मिश्रा की अध्यक्षता में संपन्न हुआ ।

महावियालय में 12 अगस्त 1999 से राष्ट्रीय सेवा योजना की इकाई प्राम्भ है । जिसमें विद्यार्थी सामुदायिक जीवन का प्रशिक्षण प्राप्त करते है । सितम्बर 2001 में महाविद्यालय छात्रसंघ के सपथ ग्रहण समारोह में छत्तीसगढ़ के उद्योग एवं कृषि राज्यमंत्री श्री विधान मिश्रा ने महाविद्यालय को कम्प्यूटर पाठ्यक्रम हेतु व अन्य कार्यो में हर संभव सहयोग का वादा किया । 31 जनवरी 2002 को महाविद्यालय के अतिरिक्त 'श्री साईं भवन ' का भूमिपूजन व शिलान्यास पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय ,रायपुर के कुलपति प्रो. बी. पी. चन्द्रा द्वारा संपन्न हुआ । यह भवन बनकर तैयार हो गया है । शिक्षा का विकास महाविद्यालय कृत संकल्प है । शासनाधीन किये जाने संबंधी प्रस्ताव भी उच्च शिक्षा विभाग छत्तीसगढ़ को भेजे जा चुके हैं ।

संभव है महाविद्यालय का उत्तरोत्तर विकास होगा । उद्योगपति श्री कमल शारडा ने दो कम्प्यूटर सेट दिए हैं । विकासखण्ड धरसीवां के नागरिक एवं कृषक वर्ग आर्थिक सहयोग दे रहे हैं । माननीय श्री देवजी भाई पटेल (उत्कृष्ठ विधायक धरसीवां के सहयोग से एवं श्री हेमंत वर्मा (सरपंच ग्राम पंचायत परसतराई ) की मांग पर श्री अशोक चतुर्वेदी ( मुख्य कार्य पालन अधिकारी ज. पं. धरसीवां ) मंच में शेड निर्माण ,साइकिल स्टैंड का निर्माण ,महाविद्यालय प्रवेश द्वार का निर्माण एवं महाविद्यालय ग्रंथालय के लिए 50,000 रुपये की पुष्तकें दी हैं ।

विशेष :- इस महाविद्यालय में छत्तीसगढ़ शासन की समस्त छात्रवृत्तियाँ मिलती है ।