होम
अनुशासन संबंधी नियम

अनुशासन संबंधी नियम

  • रेगिंग करने वाले विद्यार्थियों पर शासन के नियमानुसार कार्यवाही की जावेगी ।
  • विद्यार्थी को प्राचार्य के सामान्य तथा विशेष नियमो का पालन करना होगा । अनुशासन हीनता और आपराधिक प्रकरणों में लिप्त छात्रों को महाविद्यालय से निष्कासित किया जा सकता है ।
  • प्राचार्य के अनुमति के बिना महविद्यालय में किसी समिति का निर्णय नहीं किया जाएगा ।
  • प्रवेश के समय किसी प्रवेशार्थी को प्रताड़ित करना ,रेगिंग लेना एवं अशोभनीय कार्य करना गंभीर अपराध है ।
  • महाविद्यालय परिसर के उपकरणों ,सामानों की सुरक्षा प्रत्येक विद्यार्थी का कर्त्तव्य है । महाविद्यालय में तोड़ फोड़ करने पर निष्काशन की कार्यवाही की जायेगी ।
  • कोई भी विद्यार्थी समाचार पत्रों में महावद्यालय संबंधी किसी भी प्रकार की सूचना प्राचार्य की लिखित अनुमति के बिना नहीं देगा । छात्र दलगत राजनीति में भाग नहीं लेगा ।
  • विश्वविद्यालयीन परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए 75 % उपस्थिति आवश्यक है । इस प्रावधान का दृढ़ता से पालन किया जायेगा ।
  • प्रत्येक कालखण्ड में नियमित उपस्थिति अनिवार्य है । पढ़ाई के समय बहार घूमने वाले छात्रों पर कार्यवाही की जावेगी ।
  • मासिक मूल्यांकन और जांच परीक्षा में प्रत्येक विद्यार्थी को सम्मिलित होना अनिवार्य है ।
  • परीक्षाओं में या उसके संबंध में किसी प्रकार के अनुचित काम लेने या अनुचित साधनो का प्रयोग करने का प्रयत्न गंभीर दुराचार माना जायेगा ।
  • छात्रों को यह सावधानी रखनी होगी कि किसी अनैतिकता मूलक या अन्य गंभीर अपराध का अभियोग उस पर न लगे परन्तु यदि ऐसा हुआ तो उसका नाम तत्काल महाविद्यालय से निलम्बित या निष्कासित कर दिया जायेगा